SEO कितने प्रकार के होते है? Types of SEO in Hindi 2021

SEO कितने प्रकार के होते हैं?
SEO कितने प्रकार के होते हैं?

हैलो दोस्तों आपका हमारे इस Blog में स्वागत है. आज के इस Topic में हम बात करेंगे की SEO कितने प्रकार के होते है? Types of SEO in Hindi. यदि आपको भी इसके बारे में जानना है, तो आप इस पोस्ट को End तक पड़ सकते हैं. 

हमने अपने पिछले Post में बताया था की SEO क्या है? यदि आपने वह Post नहीं पढ़ा तो जा कर पड़ सकते हैं. लेकिन अभी हम SEO के कुछ प्रकारों के बारे में बात करने वाले हैं. जिनके बारे में हर एक Blogger को पता होना चाहिए.

यदि किसी Blogger को SEO क्या है? और SEO के कितने प्रकार होते है? नहीं मालूम होगा, तो वह Blogging में शायद ही सफल हो पाएगा. क्योंकि SEO के बिना ब्लॉगिंग नहीं किया जा सकता. आपको अपने हर एक ब्लॉग पोस्ट का सही तरीके से SEO यानी Search Engine Optimization करना होगा.

तभी आपका पोस्ट Google में Rank होगा और आपके Site में Traffic आएगा. जिससे आपकी Income होगी. बस आप यूं समझ लीजिए की SEO ब्लॉगिंग का Heart है. यह तो SEO के बारे में बस एक छोटा सा Intro था. 

तो चलिए दोस्तों अब बिना देरी किए जानते है की SEO कितने प्रकार के होते है? और इनका क्या उपयोग है. लेकिन उससे पहले यह जान लेते है, की SEO क्या है?

Read Also: (6 आसान तरीके) Facebook से पैसे कैसे कमाए? In Hindi 2021

SEO क्या है? (What is SEO in Hindi)

SEO एक ऐसी तकनीक है, जिससे हम अपने Blog के किसी भी Post/Page को Search Engine में Top Position पर ला सकते हैं. सर्च इंजन क्या है यह आप सभी को पता ही होगा. SEO की मदद से आप अपने ब्लॉग पर लाखों की संख्या में Traffic ला सकते हैं.

दोस्तों आप जब भी Google में जाकर कुछ Keyword Type करके Search करते हैं तो उस Keyword से Related Contents को Google आपको SERPs के माध्यम से दिखा देता है और ये सभी Contents किसी एक ही Particular Blog के नहीं होते बल्कि अलग अलग Blog के होते हैं.

आपको एक Page में Google 10 Post दिखाता है. और जो Results में सबसे ऊपर रहता है वो Google में No.1 पर Rank करता है. इसका मतलब यह है की उस Blog में काफी अच्छे तरीके से SEO किया गया है. जिससे वह Top कर Rank कर रहा है और उसमे ज्यादा Visitors आते है और इसी के चलते वह Blog Popular भी हो गया है.

SEO हमारे Blog को Google में Top Position कर Rank करने में सहायता करता है. तो दोस्तों आपको SEO क्या है? यह तो समझ आ ही गया होगा. तो अब यह भी जान लेते है की SEO के कितने प्रकार होते है?

SEO कितने प्रकार के होते हैं?

Basically दोस्तों SEO 2 प्रकार के होते है लेकिन कुछ और SEO भी है जिनके बारे में आपको जरूर जानना चाहिए और इसीलिए मैंने जितने भी SEO के प्रकार है उन्हे इस आर्टिकल पर Add किया है. जैसे की- On Page SEO, Off Page SEO, Technical SEO, Image SEO, Local SEO, White Hat SEO, Grey Hat SEO और Black Hat SEO. 

आपको मैं इन सभी SEO के Factors और फायदे भी बताने वाला हूं. तो अब इस पोस्ट को ध्यान से पढ़िएगा ताकि SEO के बारे में पूरी जानकारी आपको मिल सके.

1. On Page SEO 

On Page SEO एक ऐसी तकनीक है जिसे किसी Blog Post को गुगल के No. 1 Postion पर Rank कराने के लिए ऑप्टिमाइज़ किया जाता है. 

अगर हम सरल भाषा मे बात करें तो Post या Article लिखते हुए हम जिन टेक्नीक्स का उपयोग करते हैं उसे On-Page SEO कहा जाता हैं. अगर इसमें आप Master बन गए तो फिर आप अपने सभी Post को Search Engine के फर्स्ट पेज पर आसानी से रैंक करवा सकते हैं.

On Page SEO का दायरा Blog Post तक ही सीमित रहता है. इसका पूरा Control जो ब्लॉग लिखता है उसके हाथ में होता है. यदि आप ब्लॉग लिखते है, तो आपके हाथ में भी इसका Control रहता है. 

Read Also: Top 5 Profitable Money Making Blog Topic Ideas in Hindi (2021)

On Page SEO के महत्वपूर्ण Factors

जैसा की आपने अभी पढ़ा की इसका दायरा Blog Post तक ही सीमित रहता है. तो ऐसे में आपको इसके कुछ Factors पर ध्यान देना पढ़ता है. ये Factors निम्न लिखित हैं-

  • Post के Title में अपने Keyword का सही तरीके से इस्तेमाल करना. साथ ही Numbers और कुछ Power Keywords का भी उपयोग करना.
  • Permalink में हमेशा अपने Main Keyword का इस्तेमाल करना. Permalink को ज्यादा लंबा न करें.
  • Meta Description में Main Keyword का इस्तेमाल करें और साथ ही आप अपने पोस्ट में जो बताने वाले है, उसके बारे में थोड़ा जानकारी लिखें.
  • Headings में भी अपने Main Keyword का इस्तेमाल करें.
  • आर्टिकल के पहले Paragraph में अच्छी Density मे Keywords को ज़रूर Include करे.
  • हर पोस्ट में एक Image का उपयोग करें, जिसके Alt Tag में कीवर्ड का इस्तमाल करें.
  • एक Outbound Link भी अपने आर्टिकल में Include करें यानी किसी और Site के अपने ब्लॉग से Link करें.
  • Internal Links का इस्तेमाल भी Proper तरीके से करें. इसमें आपको अपने ही Blog के किसी Another Post का लिंक देना है.
  • कम से कम 1000 से 2500 Word का आर्टिकल जिसमे Visiter के सारे Doubt या Confusion क्लियर हो सके.
  • अपने ब्लॉग की Loading Speed पर ध्यान दें. इसके लिए AMP का Use करें. 

On Page SEO के फायदे

On Page SEO आपके ब्लॉग के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है अगर आप इसका इस्तेमाल सही तरीके से करते है तो. अगर एक न्यू साइट भी इसका उपयोग करे तो वो भी बड़ी आसानी से अपने पोस्ट को Google के अच्छे Positions पर ला सकता है. 

SEO में On Page SEO सबसे प्रमुख है. इसे गूगल भी Prefer करता है लेकिन वह Officially इन बातों को नहीं कहता. आपको Wordpress पर Rank Math जैसे Plugins मिल जाएंगे जिसकी मदद से आप On Page SEO कर सकते है.

2. Off Page SEO

Off Page SEO का मतलब है की हमारी Website के लिए Outside से किए गए Actions जो हमारी वेबसाइट की Ranking, Popularity और Domain Authority इत्यादि को बढ़ाता है. हर Blogger अपने ब्लॉग में Off Page SEO का काफी अच्छे तरीके से ध्यान रखता है.

जैसा की आप जानते है की On Page SEO का पूरा कंट्रोल आपके हाथों में होता है लेकिन Off Page SEO का पूरा Control आपके हाथों में नहीं होता. यह दूसरे Sites पर भी निर्भर करेगा. जैसे की यदि किसी वेबसाइट को आपका Content अच्छा लगा तो वह अपने साइट में आपके साइट को Link कर देगा. 

Off Page SEO गूगल को यह बताता है की अन्य Users आपके साइट की प्रती क्या विचार/भावना रखते है. यदि आप अपने किसी आर्टिकल को Share भी करते होंगे, तो वो भी Off Page SEO में ही आएगा. Off Page SEO भी किसी आर्टिकल को Rank कराने में बहुत बड़ी भूमिका निभाती है. 

Off Page SEO के महत्वपूर्ण Factors

  • On Page SEO की तरह ही इसके भी काफी स्टार Factors होते है जिनपर आपको ध्यान देना होगा. ताकि आपकी साइट की Ranking बढ़ सके. 
  • आपको अपने वेबाइट के लिए High Quality Backlink बनाना होगा. इसी Ranking Increase होती है. लेकिन किसी गलत साइट में जा कर Backlink बिलकुल भी न बनाएं.
  • अपने हर एक आर्टिकल को Social Media पर Share करना. इससे Social Media से भी आपके Blog पर अच्छा खासा Traffic आएगा.
  • ब्लॉग का Sitemap Creat कर उसे Google Search Console में Submit करें.
  • यदि आपके पास पैसे है तो आप अपने आर्टिकल को रैंक कराने के लिए Ads Run कर सकते है.
  • आपको किसी ऐसे Website पर जाना है जहां Guest Posting कर सको. इससे आपको काफी फायदा होगा.
  • आपके ब्लॉग पर जितने भी कॉमेंट आते है उनका आपको Reply देना होगा. इससे Visiter और आपके बीच काफी अच्छा Relation बनेगा.

Off Page SEO के फायदे

इसके काफी सारे फायदे है जैसे की इसके चलते आप अपने साइट में Traffic के लिए सिर्फ Google पर हो Depend नहीं रहते. आपको Social Media से भी अच्छा Traffic Generat होता है. यदि आप किसी High DA वाले साइट में Backlink बनाते है, तो इससे आपके आर्टिकल के Rank होने के चांसेस काफी बढ़ जाते है.

Read Also: Page Experience क्या है? Latest Google Update

3. Technical SEO

अब बारी है Technical SEO की. यह हर साइट के लिए काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है उसे Rank कराने में. इसकी मदद से आपकी साइट की Readability Improve होती है. ताकि Google का क्रोवलर जब भी आपके साइट को क्राउल करे तो उसे आपकी साइट High Quality Site के रूप में दिखाई दे.

वैसे इसको समझना बहुत सी सरल है क्योंकि इसके नाम 'टेक्निकल' से ही पता चलता है की इसमें अपने साइट को Technically Optimize करना होता है. इसके कई सारे फैक्टर है जैसे की Website की Loading Speed, SSL Certificate इत्यादि में काम करना या इसको इंप्रूव करना Technical SEO कहलाता है.

सरल भाषा में बोलूं तो अपने Site के पूरे Structure को सही ढंग से Improve करना Technical SEO कहलाता है.

Technical SEO के महत्वपूर्ण Factors

  • दोस्तों आपको अपनी Website के Architecture में काफी ज्यादा ध्यान दे, साथ ही अपने साइट को User Freindly बनाएं.
  • Website की Loading Speed के 2.5 सेकेंड या 3 सेकेंड से अधिक न रखे. अन्यथा आपकी Ranking Dowm होने लगेगी.
  • हमेशा SSL CERTIFICATE एनेबल रखे. इससे पता चलता है की आपका साइट Secure है या नहीं.
  • Google, Bing और Yahoo जैसे सभी Search Engine में अपने साइट को Index करें.
  • अपने साइट का Design एकदम Simple रखे. ज्यादा Dark Colour का इस्तेमाल न करें.

Technical SEO के फायदे

इसके भी बहुत सारे फायदे है. अगर आप Technical SEO पर ध्यान देते है तो आपकी Ranking जल्दी ही बढ़ने लग जायेगी. क्योंकि गुगल खुद इसे Recommend करता है. 

आपके साइट का लोडिंग स्पीड सही रहेगी है, तो User को जल्द ही आपका कॉन्टेंट मिलेगा. उसे आपके साइट का Design पसंद आएगा तब ऐसे में User Experience भी अच्छा रहेगा और अगर आपने वेबसाइट के प्रति User Experience अच्छा रहा तो Google Automatic ही आपकी Ranking Boost करेगा.

4. Image SEO 

Image SEO एक तरह से आपके साइट के Images को Search Engine यानी Google में Rank करने की प्रक्रिया है. इसमें सिर्फ आपके साइट की Images और Vedios को ही टारगेट किया जाता है. जानकारी के लिए बता दूं की इसे हम On Page SEO का एक भाग भी कह सकते हैं.

क्योंकि Image SEO भी पूरी तरीके से आपके ऊपर ही निर्भर करता है और इसका दायरा भी ब्लॉग पोस्ट तक ही रहता है. लेकिन फिर भी आप इसमें अलग से Search Engine Optimization कर सकते हैं. यह हर Blogger के बीच में काफी चर्चित है. 

खासकर उन ब्लॉग्स के लिए जो Images और Vedios Provide करते है. अगर आप भी अपने साइट पर Image और Vedio का उपयोग करते है, तो आपको Image SEO करना होगा. 

Image SEO के महत्वपूर्ण Factors

  • Image के कैप्शन में Proper तरीके से अपने Fokus Keyword का इस्तेमाल करें. 
  • Alt Text में भी फोकस कीवर्ड Add करें. इससे आपकी Inage भी Rank होने लगेगी और आपके ब्लॉग पर Extra Traffic आएगा.
  • आप जो अपने पोस्ट के टाइटल में लिखेंगे उसी को Image Name पर भी लिखें यानी की पोस्ट का टाईटल और इमेज का नाम मिलता जुलता होना चाहिए.

Image SEO के फायदे

आप Google में जब भी कुछ Search करते है, तो आपने कभी न कभी यह तो जरूर देखा होगा की गुगल में Inages और Vedios का एक अलग ही सेक्शन होता है. ऐसे में अगर कोई कुछ Search कर रहा है और उसे Image देखना है, तो वह Images के सेक्शन में जायेगा और यदि उसे आपका Image दिख जाता है तो वह आपके वेबसाइट में भी आ सकता है. 

इससे आपकी Traffic काफी ज्यादा बढ़ेगी. इसका एक खास फायदा यह भी है की इसमें आपको On Page SEO और Off Page SEO के जैसे ज्यादा मेहनत करना नहीं पड़ता. 

5. Local SEO

दोस्तों इसे समझना थोड़ा सा मुस्किल है इसलिए इसे मैं आपको एक उदाहरण के द्वारा समझाऊंगा. मान लीजिए की एक कपड़े का दुकान है जो हैदराबाद में है और उस दुकान के मालिक को Online Business करना है यानी की अपने दुकान के कपड़ों को उसे Online बेचना है.

तो ऐसे में वह Local SEO की मदद लेगा. ताकि उस क्षेत्र के लोग उनके दुकान के बारे में जान सके और कपड़े भी Order कर सके. तो दोस्तों आपको Local SEO क्या है? जरूर समझ आ गया होगा. 

यदि आप भी अपने साइट पर किसी शॉप के बारे में जानकारी देते है, तो आपको Local SEO करना होगा ताकि वह शॉप जिस क्षेत्र में है उस क्षेत्र के लोगों को उसके बारे में पता चल सके. 

Read Also: [9 आसान तरीके] Google से पैसे कैसे कमाए? | जानिए पूरी जानकारी हिंदी में

Local SEO के महत्वपूर्ण Factors

  • अगर Local SEO कोई महत्वपूर्ण Factor ही तो वह Local Keyword ही है. आपको Local Keywords पर ज्यादा ध्यान देना है.
  • वैसे और कोई Factor तो इसके नहीं है लेकिन अगर आप चाहे तो Google Search Engine और Youtube पर Ads Run कर सकते है. इससे Local लोगों तक आपकी साइट बड़ी आसानी से पहुंच जाएगी.
  • साथ ही इसके आप On Page SEO, Off Page SEO और Image SEO का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

Local SEO के फायदे

इसका सबसे ज्यादा फायदा उन लोगों को होता है जो Online Business करना चाहते हैं. Local SEO करके आप अपने क्षेत्र के लोगों तक बड़ी आसानी से Online ही पहुंच सकते हो. 

सिर्फ Online Business ही नहीं बल्कि यदि आप Local चीजों के बारे में यानी की Local जानकारी दे रहें है तो भी आपको Local SEO करना होगा. 

6. White Hat SEO

यदि आप Google के मुताबिक SEO करते है, तब वह White Hat SEO कहलाएगा. On Page SEO, Off Page SEO, Technical SEO Image SEO और Local SEO इसे के अंग है. इसे सबसे अच्छा SEO भी माना जाता है.

White Hat SEO की मदद से किसी भी Web Page/आर्टिकल को Google के Top में Rank करने में काफी समय लगता है इसलिए हम इसे धीमा प्रोसेस भी बोल सकते हैं. 

इसमें समय तो लगता है लेकिन दोस्तों यदि एक बार आपका Web Page गुगल के टॉप पर आगया तो वह काफी अधिक समय तक टॉप पर ही रहेगा. इससे आपकी साइट का Value भी बढ़ेगा और आपका साइट गुगल के नजरों में भी आने लगेगा. 

White Hat SEO के महत्वपूर्ण Factors

  • आपको Proper तरीके से Keyword Reaserch करना है. साथ ही On Page SEO और Off Page SEO भी करें.
  • Google के सभी Algorithms को Follow करें. 
  • अपने साइट पर Illigal Content न डालें.
  • Link Bulding करें. ताकि Google को आपके साइट पर Trust हो और आपकी Ranking भी Increas हो.
  • अपने आर्टिकल से Related Image का इस्तमाल करें.
  • सोशल मीडिया पर भी अपने आर्टिकल को शेयर करें. 
  • अपने आर्टिकल की Length 1000 से 2500 Word तक रखें इससे अधिक भी चलेगा.

White Hat SEO के फायदे

White Hat SEO के काफी सारे फायदे है. इसमें भले ही आपके आर्टिकल को रैंक होने में समय लगेगा लेकिन जब रैंक होने लगेगा तब उसका फायदा आपको जरूर होगा. साथ ही आपके साइट के प्रति गुगल को भी Trust होने लगेगा.

और अगर एक बार गुगल को आपके साइट के ऊपर ट्रस्ट हो गया तो भईया आपका तो बल्ले बल्ले. आपकी Ranking भी लगातार बढ़ते लगेगी. दोस्तों मैं आपको यही Recommend करूंगा की आप White Hat SEO का इस्तेमाल जरूर करें.

7. Black Hat SEO

दोस्तों वैसे तो आपने यह जान ही लिया है की SEO के कितने प्रकार होते है? लेकिन अभी भी ऐसे प्रकार बाकी है जो आपके ब्लॉग के लिए खतरे बन सकते हैं. मैं इनके बारे में आपको सिर्फ जानकारी दे रहा हूं. आपको इन्हे अपने ब्लॉग पर अप्लाई नहीं करना है. 

यदि आप वाकई में Google से पैसे कमाना चाहते है यानी ब्लॉगिंग में Success होना चाहते हैं तो Black Hat SEO से दूर ही रहिएगा. White Hat SEO के जस्ट अपोजिट ही Black Hat SEO है. 

एक तरफ जहां White Hat SEO में अधिक समय लगता है किसी आर्टिकल को गुगल में रैंक होने में तो वहीं दूसरी तरह Black Hat SEO से सिर्फ एक दिन में ही अपने किसी भी पोस्ट को आप गूगल के टॉप पर रैंक करवा सकते हैं.

लेकिन ऐसा तभी होगा जब आप Google के मुताबिक काम न कर रहे हो यानी गूगल जिन कामों को करने से मना करता है आप उन्हीं कामों को करके अपने पोस्ट को रैंक कराएंगे. ऐसे में गुगल आपके साइट को Blacklist में भी डाल सकता है. 

Read Also: Semantic SEO क्या है? What is Semantic SEO in Hindi 2021

Black Hat SEO के महत्वपूर्ण Factors

  • यदि आप Backlink के चक्कर में link Spam करते है तो ये भी Black Hat SEO में ही आता है.
  • Keyword Density के स्कोर को अच्छा करने के लिए लोग अक्सर Keyword Stuffing करते है और यह भी Black Hat SEO का अंग है.
  • यदि आप अपने आर्टिकल में किसी Link या Text को Hidden करके रखते है. तो ऐसा करना बंद कर दीजिए क्योंकि इससे आपको काफी नुकसान हो सकता है.
  • Doffolow और Nofollow Backlinkका Ration Set भी करें. 

दोस्तों मैंने Black Hat SEO के पहले जितने भी SEO थे उन सभी के फायदे आपको बताते थे. लेकिन Black Hat SEO के बिलकुल भी फायदे नहीं है.

8. Grey Hat SEO

95% White Hat SEO और 5% Black Hat SEO का उपयोग करना Grey Hat SEO कहलाता है. इसमें White Hat SEO और Black Hat SEO दोनो ही शामिल होते है. 

जब हम अपने ब्लॉग को रैंक कराने के लिए Grey Hat SEO का इस्तामेल करते है तब हम Google Algorithms के नजर में आए बिना ही अपने ब्लॉग को टॉप में Rank कर लेते हैं. यदि आपको Grey Hat SEO करना है तो आप White Hat SEO का उपयोग करें और जितना ज्यादा कम हो सके उतना Black Hat SEO का इस्तेमाल करें.

Grey Hat SEO के महत्वपूर्ण Factors

  • Backlink हर किसी को चाहिए इसलिए कई लोग Snart Work करके Backlink बनाते है तो कई लोग Backlink खरीदते है. Backlink खरीदना भी Grey Hat SEO में आता है.
  • यदि आप Duplicate Content लिखते है, तो उसे थोड़ा कम कर दीजीए क्योंकि ऐसा हमेशा करते रहने से आपको नुकसान हो सकता है.
  • यदि आप Followers खरीदते है यानी अपने ब्लॉग पर Views लाने ले लिए आप Visitors को खरीदते है, तो सबसे ऐसा न करें.

Conclusion (SEO कितने प्रकार के होते है?)

तो दोस्तों यह था SEO कितने प्रकार के होते है? Types of SEO in Hindi. आशा करता हूं की यह Post आपको जरूर पसंद आया होगा. इसमें मैने SEO सभी प्रकारों का वर्णन किया है. SEO हर Blog के लिए बहुत ही जरूरी है.

बिना SEO किए किसी Blog का Successful होना नामुमकिन है. मैने यह पोस्ट लिखा क्योंकि मेरी हमेशा से यही कोशिश रही है की मैं लोगों को सही जानकारी प्रदान करूं ओ भी सरल भाषा में. 

यदि अभी भी आपको ऐसा लगता है की इस पोस्ट में कुछ सुधार करने की जरूरत है, तो आप कॉमेंट करके अपनी राय बता सकते हैं. हम आपकी बातों पर ध्यान जरूर देंगे. साथ ही इस पोस्ट को सोसल मीडिया और अपने सभी दोस्तों के साथ Share भी करें ताकि उन्हें भी SEO के सभी प्रकारों के बारे में पता चल सके.

धन्यवाद!

हमेशा सीखते रहिए ♥️

Read Related Articles:

Post a Comment

Previous Post Next Post