अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा?

अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा?
अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा?

अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा? दोस्तों यह काफी ज्यादा चर्चित प्रश्न है यानी की ज्यादातर लोगों के मन में यह सवाल जरूर रहता है।

क्योंकि वे उन कंपनियों में अपना पैसा लगाते है ताकि उन्हे कुछ समय पश्चात अच्छा रिटर्न मिल सके लेकिन अगर उनके पैसे लगाने के बाद वह कंपनी उनके पैसे लेकर फरार हो जाए तो ऐसे में उन लोगों को काफी ज्यादा नुकसान हो जाता है।

यदि आप भी Share Market में पैसा Invest करते है, तो आपको भी इस बारे में जरूर जानना चाहिए की अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा? साथ ही Share बाजार में होने वाले नुकसान से बचने के लिए कुछ जरूरी टिप्स भी आपसे साथ आज मैं साझा करने वाला हूं।

अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा?

मैं आपको डायरेक्ट ही बता देता हूं की ऐसा बिलकुल भी नहीं होगा। कोई भी कंपनी ऐसे पैसे लेकर नहीं भाग जाती क्योंकि लोग जितने तेजी से किसी कंपनी के निवेश करते है उतने ही तेज गति से उस कंपनी की वैल्यू बढ़ती जाती है। 

कंपनी को काफी ज्यादा फायदा होता है और वह मुनाफा में रहता है। कंपनी को यह पहले से मालूम रहता है की अगर वो लोगों के पैसे लेकर फरार हो जायेगी तो उसके पास कुछ ही धन बचेंगे लेकिन अगर वह Share Market में टिके रहती है, तो आने वाले कुछ सालों में ही वह करोड़ों का बिजनेस कर सकती है।

लेकिन दोस्तों यह हो सकता है की आपने किसी कंपनी में निवेश किया हो और वह बंद हो जाय, अगर आपके साथ भी ऐसा हो जाता है तो डरने की कोई भी जरूरत नहीं क्योंकि भले ही कंपनी बंद हो जाय किंतु आपके पैसे पूरी तरीके से सुरक्षित रहेगा।

जी हां दोस्तों! आपने बिल्कुल सही पढ़ा अगर कोई कंपनी बंद हो भी जाती है तो ऐसे में आपके द्वारा लगाए गए सभी पैसे सुरक्षित रहेंगे जिसे आप निकाल भी सकते हैं। आपको हर्षद मेहता के बारे में तो मालूम ही होगा, जब हर्षद मेहता का स्कैम सामने आया था तब उनकी ब्रोकिंग कंपनी ग्रो मोर रिसर्च एंड एसेट मैनेजमेंट को सेबी द्वारा बैन किया गया था।

लेकिन इस कंपनी में जितने भी लोगों ने पैसे लगाए थे उन्हें कोई भी नुकसान नहीं हुआ था। यह वाकई में काफी अच्छी बात है की कंपनी के बंद हो जाने के बाद भी हमारे पैसे सुरक्षित रहते हैं। 

कंपनी के बंद हो जाने के बाद उसके स्टॉक और शेयरों का क्या होगा?

शेयर बाजार के पैसे इन्वेस्ट करने के लिए एक डीमेट अकाउंट की जरूरत होती है, बिना इसके आप इन्वेस्ट नहीं कर सकते हैं। इसी डीमेट अकाउंट में शेयर, ईटीएफ, म्युचल फंड और सिक्योरिटीज आदि को इलेट्रॉनिक फार्मेट में रखा जाता है।

हमारे देश में कई सर स्टॉक ब्रोकिंग कंपनियां है, जिनकी मदद से आप अपना डीमेट अकाउंट बना सकते हैं और निवेश कर सकते हैं। आप जितने भी रुपए निवेश करेंगे वो इसी डीमेट अकाउंट में जमा होगा। 

ब्रोकरेज फर्म्स के पास किसी भी निवेशक का स्टॉक या शेयर नहीं होता। यह बस एक प्लेटफार्म के रूप में कार्य करती है। इसका काम होता है आपके निर्देश का पालन करना यानी आप अपने पैसों को कब निवेश करोगे और कब नहीं करोगे यह पूरा कंट्रोल आपके पास ही रहेगा।

यानी की आपके पैसे किसी कंपनी के पास नही बल्कि AMC (एसेट मैनेजमेंट कंपनी) के पास रहेगा। ऐसे में अगर कोई ब्रोकरेज फर्म बंद हो जाती है तब आपका म्युचल फंड पूरी तरीके से सुरक्षित रहेगा।

Conclusion (अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा?)

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं की आपको यह पोस्ट अगर कोई कंपनी शेयर मार्केट के द्वारा पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा? जरूर पसंद आई होगी। साथ ही आपको आज कुछ नया सीखने को भी जरूर मिला होगा। 

अगर यह पोस्ट आप लोगों को पसंद आई तो इसे अपने सभी दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ Share करना न भूलें ताकि उन्हे भी मालूम पड़ सके की अगर कोई कंपनी पैसा उगाह कर फरार हो जाए तो निवेशक क्या करेगा?

धन्यवाद!

हमेशा सीखते रहिए ❤️

Read Related Articles: 

Post a Comment

Previous Post Next Post