Metaverse (मेटावर्स) क्या है? जो बदल देगा पूरी दुनिया, जानिए इसके बारे में (2022)

Metaverse (मेटावर्स) क्या है? : हैलो दोस्तों! आपका हमारे इस ब्लॉग में स्वागत है। आज हम मेटावर्स के बारे में जानने वाले हैं। यह एक नया कांसेप्ट है और हमारा फ्यूचर भी यही है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की मेटावर्स पूरी दुनिया को बदल के रख देगा, इसका सबसे ज्यादा प्रभाव इंटरनेट पर दिखेगा।

Metaverse (मेटावर्स) क्या है?
Metaverse (मेटावर्स) क्या है?

आप फेसबुक तो चलाते ही होंगे। अगर नहीं चलाते तो कभी न कभी इसका नाम तो सुना ही होगा। लेकिन अब मार्क जुकरबर्ग ने फेसबुक का नाम बदलकर Meta (मेटा) रख दिया है। क्योंकि उनको भी मालूम है की भविष्य में क्या होने वाला है और किसी अधिक डिमांड है।

दोस्तों मेटावर्स एक वर्चुअल दुनिया है, यहां आपको एक अलग ही प्रकार का अनुभव होगा। वैसे तो इस वर्चुअल दुनिया को कंप्यूटर द्वारा तैयार किया जाएगा, लेकिन यह आपको किसी असली दुनिया से कम नहीं लगेगा। अगर सब चीज सही रहा तो, मेटवार्स इंटरनेट की जगह ले लेगा। 

लेकिन इसे तैयार करना काफी मुस्किल है, इसे Augmented Reality और Advance AI (Artificial Intelligence) की सहायता से तैयार किया जाएगा। आने वाला समय हमारे लिए काफी मजेदार होने वाला है क्योंकि भविष्य में मेटावर्स जैसे नई नई टेक्नोलॉजी का निर्माण होने वाला है।

तो दोस्तों अब हम मेटावर्स के बारे में विस्तार से जानने वाले हैं। हम जानेंगे की Metaverse क्या है, Metaverse कैसे दिखेगा, क्या Metaverse Safe होने वाला है इत्यादि के बारे में।

Metaverse क्या है? (What is Metaverse in Hindi)

सबसे पहले जानते हैं कि Metaverse क्या है? और यह चर्चा का विषय क्यों बन गया है। मेटावर्स एक वर्चुअल दुनिया है, यहां एंट्री करने के बाद हमे एहसास होगा की हम उसी वर्चुअल दुनिया में रहते है। वह दुनिया हमें एकदम असली लगेगा।

मेटावर्स के निर्माण में एक साथ काफी सारी तकनीकों का प्रयोग किया गया है। जैसे की वर्चुअल रियलिटी, ऑगमेंटेड रियलिटी, मशीन लर्निंग, ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसी तकनीक।

आप अपने घर में ही रहेंगे किंतु आप जब इस वर्चुअल दुनिया में जायेंगे तो आप वहां बहुत कुछ कर सकते है, अपने दोस्तों से मिल सकते है उनके घर जा सकते है और भी बहुत कुछ। आप इसके मात्र कुछ ही सेकंड में अपने आप को Teleport कर सकते हैं।

आप कार चला सकते हैं, जहां चाहे वहां पहुंच सकते है चाहे वो आपके दोस्तो का ऑफिस हो या उसका घर, आप पहाड़ों में जा सकते हैं, नदियों, रेगिस्तान जहां चाहें वहां जा सकते हैं।

हम ऐसा भी कह सकते हैं की Metaverse एक ऐसा स्थान है, जिसकी कोई भी लिमिट नहीं है। यहां हम वो सारे काम कर सकते हैं, जो हम चाहते हैं। लेकिन जानकारी के लिए बता दूं की यह Online होगा।

Metaverse का इतिहास (History of Metaverse)

सन् 1992 में पहली बार Neal Stephenson द्वारा लिखी गई एक साइंस फिक्शन किताब "स्नो क्रैश" से 'Metaverse' शब्द का इस्तेमाल किया गया था। इसमें नोवेल में ऐसा लिखा गया है की असली यानी बाहरी दुनिया पूरी तरह से खत्म हो चुकी है और लोग अपने घर में ही बैठकर वर्चुअल दुनिया में जी रहे हैं।

Neal Stephenson ने इस वर्चुअल दुनिया का नाम Metaverse रखा। इसी से प्रेरित होकर सन् 2003 में एक कंप्यूटर गेम भी बनाया गया था, जिसका नाम "सेकेंड लाइफ" था। कंप्यूटर की सहायता से लोग इस गेम को खेलते थे और इसमें अपना एक अलग ही दुनिया बनाते थे।

चीजें खरीदना, प्रॉपर्टी खरदीना, कार चलाना इत्यादि चीजें इस गेम का मुख्य हिस्सा था। साथ ही इस साइंस फिक्शन किताब में ही पहली बार Avtaar शब्द का इस्तेमाल भी हुआ है। इसके बारे में हम आगे बात करेंगे।

एक जरूरी बात: अगर आप इसी प्रकार की और भी जानकारी चाहते है तो आप हमारे साथ Telegram (Click Here) या Whatsapp (Click Here)  पर जुड़ सकते है। 

Metaverse शब्द कहां से आया? (Metaverse Word)

जैसा की आपने अभी ऊपर पढ़ा की Neal Stephenson यह एक साइंस फिक्शन उपन्यासकार हैं। इनकी किताब "स्नो क्रैश" से Metaverse शब्द का इस्तेमाल किया गया है। इस किताब में उन्होंने यह दर्शाया है की किस प्रकार लोग एक 3D दुनिया (वर्चुअल दुनिया) में अपना Avtaar बनाके रहते हैं और अपनी असली दुनिया में बैठे बैठे ही लोग कैसे इस काल्पनिक दुनिया का आनंद ले रहे हैं।

Metaverse कैसा दिखेगा?

यह एक 3D Platform है, जहां हम अपना Avtaar बना सकते है। जो दिखने में हमारे जैसा ही दिखेगा, अलग भी दिख सकता है। उसमे हमारे जैसे ही फिजिकल अपीरियंस भी रहेगा। साथ ही हम अपने अवतार के जरिए दूसरों के अवतार से संपर्क भी कर सकते हैं।

भले ही मेटावर्स मात्र एक वर्चुअल दुनिया होगा लेकिन इसका उपयोग करने वालों को यह किसी असली दुनिया से कम नहीं लगेगा। 

आप इस ट्रेलर को देख लीजिए,इससे आपको मेटावर्स के बारे में थोड़ा सा अंदाजा जरूर हो जायेगा -


Metaverse की 3D दुनिया कैसी रहेगी?

आपने हॉलीवुड की बहुत ही लोकप्रिय फिल्म अवतार तो देखी ही होगी। इस फिल्म में 3D दुनिया को बहुत ही बेहतर तरीके से दिखाया गया है। इसी तकनीकी को अब हकीकत में लाने की कोशिश की जा रही है।

हर क्षेत्र की कंपनियां जैसे की हॉस्पिटैलिटी, टेलीकॉम, बैंकिंग, हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर इत्यादि क्षेत्र की कंपनियो को आपस में मिलकर एक नया इको सिस्टम का निर्माण करना होगा। तब लेक Metaverse को असल दुनिया में लाया जा सकेगा।

Metaverse की 3D दुनिया में हमे ये चीजें देखने को मिलेगी-

1. Avatars (अवतार्स)

Avatar का मतलब है किसी इंसान का प्रतिरूप। Metaverse में लोग अपने हिसाब से अपने अवतार का निर्माण कर सकेंगे साथ ही Physical Characteristics और Personalities को भी धारण करने में सक्षम होंगे।

2. Components के अंदर प्रवेश कर सकते हैं?

वर्तमान समय में भले ही लोग Metaverse के बारे में कम जानते हो लेकिन कुछ स्थानों में Metaverse के Components का इस्तमाल किया जा रहा है। जैसे की Virtual Shopping, Casinos, Games आदि। 

लेकिन अभी भी हमे एक ऐसी Platform की जरूरत है जो हमे हमारे ही अवतार में सभी जगहों पर जाने की सुविध Provide करें। Metaverse के आने के बार हम इस सुविधा का लाभ भी उठा सकेंगे।

3. आकस्मिक उपयोगकर्ता व्यवहार

आप सभी लोग ये तो सोचते ही होंगे न की काश कोई ऐसा भी गेम होता जहां हम जो चाहे वो कर सकते और कोई भी लिमिट न हो। लेकिन जितने भी मोबाइल और कंप्यूटर गेम है उनमें अधिकतर गेम में ऐसा करने को नहीं मिलता। काफी सारी लिमिटेशन होती है। 

लेकिन दोस्तों Metaverse में आपको कोई भी लिमिट नहीं मिलेगी यानी की जो मन में आए वो करो। 

4. बेहतर User Experience

अगर एक बेहतर तकनीकी का निर्माण किया जाए तो बेहतर Metaverse बनाया जा सकेगा। जहां User Experience भी अच्छा रहेगा। फिलहाल हमारे पास जो High-Quality Virtual Reality Headsets, Faster Networks, Better Computers, Augmented Reality आदि चीजें है उन्हे और भी बेहतर बनाना चाहिए।

इससे User Experience और भी बेहतर रहेगा। साथ ही ऐसी Technology भी बनाना होगा जिससे Digital Twins बनाया जा सके। मतलब की असल दुनिया में मौजूद Physical चीज़ें जैसे की Car, Buildings या Bridges का रूपांतरण Metaverse में हो। 

साथ ही Haptic Technology यानी की यह User को एक ऐसा अनुभव पैदा करेगा जो उसको Touch या Motion का आभास कराएगा। यह बहुत ही जरूरी है Metaverse के लिए।

5. Interoperable (इंटरोऑपरेबिलिटी)

वर्तमान समय में आप Gmail का इस्तेमाल तो करते ही होंग, इसमें काफी सारी चीजों को भी स्टोर करके रखा होगा या Google Photos का भी इस्तेमाल आप करते होंगे जिसने आपके फोटोज़ स्टोर होंगे। यह तो हुई वास्तविक दुनिया की बात लेकिन Metaverse में ऐसा नहीं होगा, सब चीज बदल जायेगा।

वर्चुअल दुनिया (Metaverse) में सभी चीजें Interoperable (इंटरोऑपरेबिलिटी) होंगी। इसमें Digital Assets, Content तथा Data को कहीं भी, कभी भी, किसी भी जगह आप ले जा सकेंगे। यानी की अगर आप वर्चुअल दुनिया में कोई चीज खरीदते हैं, जैसे की कार, तो फिर आप उस कार को अपने अवतार के साथ कहीं भी ले जा सकेंगे।

Metaverse का इस्तेमाल कब तक हम कर सकेंगे? (How long will we be able to use Metaverse?)

दोस्तों वर्तमान में तो सिर्फ इस Metaverse की वर्चुअल दुनिया का कल्पना किया जा रहा है। यह कल्पना असल दुनिया में जब संभव होगा, इसके बारे में अभि कुछ नहीं कहा जा सकता। 

खुद मार्क जुकरबर्ग ने कहा है की इस Technology को आने में अभी भी काफी समय लगेगा। 

Metaverse से हमारे जीवन में क्या बदलाव आएगा?

आज हर व्यक्ति की जिंदगी सकार रूप से गुजर रही है। Metaverse को लेकर मात्रा वर्चुअल दुनिया का ही कल्पना किया जा रहा है। इसके आ जाने के बाद हर व्यक्ति अपनी पसंद की हर चीज और खूबसूरत दुनिया में जाकर उसका Live आनंद ले सकेगा।

इस वर्चुअल दुनिया को वसूल दुनिया भी माना जा रहा है क्योंकि इसकी मदद से लोग पलक झपकते ही अपनी पसंद की चीजों का लाभ उठा पाएंगे और उसको उपयोग भी कर सकेंगे। वर्तमान में आप अपने स्मार्टफोन से Vidio Calls की मदद से लाइव शो जैसे चीजों का आनंद लेते हैं

कितनी Metaverse के आ जाने के बाद यह पूरी तरह से बदल जाएगा साथ ही लोगों का जीने का तरीका भी बदलेगा। Metaverse में डिजिटल क्लोथिंग का जमाना भी देखा जा सकेगा। लेकिन दोस्तों जानकारी के लिए बता दे की आपको इस वर्चुअल दुनिया में घूमने के लिए कई प्रकार की डिजिटल उपकरणों की जरूरत पड़ेगी।

Metaverse की विशेषताएं (Benefits Of Metaverse)

हमारे जीवन में जब Metaverse आ जायेगा तब हमे इससे काफी फायदा होगा। जैसे की-

  • इसका सबसे बड़ा फायदा यह है की हम इसकी सहायता से अपने रिश्तेदारों, दोस्तों और अनजान लोगों के साथ भी संपर्क कर सकते हैं।
  • इसकी मदद से हम वर्चुअल दुनिया में कहीं भी आ-जा सकते है। घूम सकते है, काम कर सकते है, ट्रेवलिंग कर सकते हैं, कलाकृति देख/बना सकते है, माउंटेन में चढ़ सकते है, स्विमिंग कर सकते है यानी की अगर मैं सीधी भाषा में बालू तो हम जो चाहें वो कर सकते है।
  • इसके मदद से हम असल दुनिया और वर्चुअल दुनिया के अंतर को सही तरीके से समझ सकेंगे।
  • यह मेटावर्स एक तरह से Internet का Updated Version है। इसमें हम एक दूसरे से दूर हो कर भी आपस में संपर्क कर सकते हैं, एक दूसरे को छू सकते है, बैठ सकते है, हाथ मिला सकते है इससे असल जिंदगी में जो लोग एक दूसरे से काफी ज्यादा दूर है उन्हे वर्चुअल दुनिया की सहायता से दूरी महसूस नहीं होगी।
  • यहां हम अपनी पसंद की कार, बाइक, घड़ी, मोबाइल, घर, महल इत्यादि चीजें खरीद सकते हैं।

Metaverse के रियल लाइफ Examples

आप इसे इस तरह समझ सकते है की जब आपका मन करेगा तब आप डिजिटल उपकरणों जैसे की हेड फोन लगाकर या किसी मशीन में बैठकर एक ऐसी दुनिया में प्रवेश करेंगे जहां आपको हर चीज असली महसूस होगा। 

आप जो काम असल जिंदगी में करते है उसे इस वर्चुअल दुनिया में भी कर सकेंगे। फिर चाहे वो गेम खेलना हो, सोना हो, कुछ सीखना या सिखाना हो दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ गेट टुगेदर हो इत्यादि चीजें।

क्या Metaverse से हमे नुकसान हो सकता है? 

यह एक कंपलेक्स कॉन्सेप्ट् है। क्योंकि यहां हर चीज 3D में रहेगा लेकिन ये किसी असली दुनिया से कम नहीं लगेगा। लेकिन मैंने आपको पहले ही बता दिया है की इसमें प्रवेश करने के लिए डिजिटल उपकारों की जरूरत पढ़ेगी। अब कोई व्यक्ति हर समय तो इन डिजिटल उपकारों से चिपका यानी इसे लगाए तो नही रह सकता न। उसे कुछ मुस्किलों का सामना तो करना ही पड़ेगा। 

इससे ऐसा भी हो सकता है को लोगों को उनकी असली दुनिया से ज्यादा Metaverse की वर्चुअल दुनिया ही पसंद आ जाए और वे इसके आदि हो जाए यानी लोगों को Metaverse की लत भी लग सकती है। जैसे वर्तमान समय में लोग हर वक्त मोबाइल चलाते रहते है।

ऐसा भी हो सकता है की लोग वर्चुअल दुनिया की चीजों को अधिक पसंद करने लगे और अपनी असली जिंदगी की चीजों से बोर हो जाए।

Metaverse की चुनौतियां

Metaverse का निर्माण करने के लिए जिन चीजों की जरूरत पड़ेगी वे सभी चीजें वर्तमान समय में हमारे पास उपस्थित नहीं है। इसका निर्माण करना चुनौती भरा काम होगा। 

हम अभी जिस Internet का इस्तेमाल करते है, उसमे काफी सारी लिमिटेशन है। हम उस लिमिट से अधिक कुछ नहीं कर सकते। Metaverse के लिए इंटरनेट की स्पीड को और भी अधिक बढ़ाना होगा। फिलहाल हमारे पास 4G है, जो काफी तेज है लेकिन इतना तेज नहीं की पूरी तरीके से Metaverse इसमें चल सके।

क्योंकि इसका उपयोग करोड़ों लोग एक साथ करेंगे तब 4G के किए इसे संभालना बहुत ही मुश्किल होगा। लेकिन अगर 6G का उपयोग किया जाए तो Metaverse कुछ हद तक संभव हो सकेगा। क्योंकि फास्ट इंटरनेट के अलावा और भी कई प्रकार के डिवाइस तैयार करना होगा। तब जाके पूरे तरीके यह संभव होगा।

जब करोड़ो लोग इसका इस्तेमाल करेंगे तो इसमें लोगों के Data की सेफ्टी के लिए सवाल उठना भी लाजमी है। जो भी कंपनी इस्का निर्माण करेगी उसे Users के Data की सेफ्टी पर भी ध्यान देना होगा अन्यथा Metaverse के प्रति लोग काम रुचि दिखाएंगे।

कौन कौन सी कंपनियां Metverse पर काम कर रही है?

मेटावर्स Advance Technology से बनाया जायेगा, इसे बनाने के लिए कई सारे टेक्नोलॉजी कंपनियां जैसे Microsoft, Fortnite, Google, NVIDIA, Roblox Crop आदि एक साथ मिलकर इसको तैयार करने में लगी हुई है। 

FAQs: Related to Metaverse

सवाल: 1 – फेसबुक का नाम चेंज कब हुआ?

जवाब – 28 अक्टूबर 2021 को


सवाल: 2 – क्या Metaverse से हम गेट टुगेदर कर सकेंगे?

जवाब – हां, इसके जरिए हम एक दूसरे से दूर होकर भी गेट टुगेदर कर सकते है.


सवाल: 3 – मेटावर्स कैसे काम करेगा?

जवाब – मेटावर्स 3D टेक्नोलॉजी की तरह काम करेगा.


सवाल: 4 – मेटावर्स शब्द कौनसे किताब से लिया गया है?

जवाब – “स्नो क्रैश” किताब से लिया गया है.

Conclusion [मेटावर्स (Metaverse) क्या है?]

तो दोस्तों यह था मेटावर्स क्या है? हमने इस पोस्ट में आपको Metaverse के बारे में सभी जानकारी देने की कोशिश की है और उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट जरूर पसंद आया होगा। साथ ही इस पोस्ट से आपको काफी कुछ सीखने को भी मिला होगा।

Metaverse के बारे में आप क्या सोचते है और इसके लिए आप कितना उत्साहित है हमे कमेंट करके जरूर बताएं। साथ ही इस पोस्ट को अपने दोस्तों तथा अन्य सभी Social Media Platform पर शेयर भी करे। 

ताकि अन्य लोगों को भी Metaverse के बारे में पता चल सके। 

धन्यवाद!

हमेशा सीखते रहिए ❤️

Read Related Articles:


Post a Comment

Previous Post Next Post